1. Home
  2. /
  3. Others
  4. /
  5. स्प्रिंग के प्रकार (Spring ke Prakar)

स्प्रिंग के प्रकार (Spring ke Prakar)

दोस्तों, आईटीआई कोर्स डॉट कॉम में आपका स्वागत है, आज की इस पोस्ट में स्प्रिंग के प्रकार (Spring ke Prakar) आदि के बारे में बताया गया है। यदि आप जानकारी पाना चाहते हो तो पोस्ट को पढ़कर जानकारी प्राप्त कर सकते हो।

स्प्रिंग के प्रकार (Types of Spring)

Spring ke Prakar
Spring ke Prakar

स्प्रिंग मुख्यत: निम्न प्रकार से होते हैं, जिसके बारे में नीचे बताया गया है-

1.क्वॉयल स्प्रिंग (Coil Spring)

क्वॉयल स्प्रिंग (Coil Spring) का अधिकतर उपयोग माप लेने वाले स्टील टेपों और घड़ियों (Watches) आदि में किया जाता है। इसको बनाने के लिए स्प्रिंग स्टील का उपयोग किया जाता है। इसके लिए स्प्रिंग स्टील (Spring Steel) की पतली स्ट्रिप से क्वॉयल के रूप में बनाया जाता है।

2.कोनिकल डिस्क स्प्रिंग (Conical Disc Spring)

इस प्रकार के स्प्रिंग का उपयोग (use) उस स्थान पर किया जाता है, जहां पर सीमित स्थान (confined space) व उच्च लोड की आवश्यकता होती है। यह यूनिफार्म थिकनैस का एनुलर-कोड डिस्क स्प्रिंग होता है।

3.हेलिकल टेंशन स्प्रिंग (Helical Tension Spring)

हेलिकल टेंशन स्प्रिंग प्रायः स्प्रिंग स्टील की गोल रॉड ((Round Rod) से बनाया जाता है यह स्प्रिंग क्लोज-क्वॉयल स्प्रिंग होते हैं‌। जो कि एक हुक या लूप द्वारा लगाए गए टेंसाइल लोड का सामना करते हैं।

4.हेलिकल कम्प्रेशन स्प्रिंग (Helical Compression Spring)

इस प्रकार के स्प्रिंग ओपन-क्वॉयल वाले हेलिकल स्प्रिंग होते हैं, जो कि कम्प्रेसिव लोड (Compressive Load) का सामना करते हैं।
इस प्रकार के स्प्रिंग प्रायः स्प्रिंग स्टील की गोल रॉड से बनाए जाते हैं। इसके अतिरिक्त आयताकार या वर्गाकार आकृति (Shape) के मैटीरियल का भी उपयोग किया जाता है।

हेलिकल कम्प्रेशन स्प्रिंग के प्रकार

यह मुख्यत: दो प्रकार के होते हैं-

(i)ओपन-ऐंडिड हेलिकल कम्प्रेशन स्प्रिंग

इस प्रकार के स्प्रिंग का उपयोग ऐसे स्थान पर किया जाता है, जहां पर अक्षीय लंबाई (Axial Length) प्रतिबंधित होती है।

(ii)क्लोज्ड-ऐंडिड हेलिकल कम्प्रेशन स्प्रिंग

इस प्रकार के स्प्रिंग का अधिकतर उपयोग किया जाता है, क्योंकि यह क्लोज्ड ऐण्ड्स (Closed ends) वाले होते है तथा उन्हें फ्लैट व स्क्वायर ग्राइंड किया होता है। ये ऐण्ड लोड का अच्छा वितरण करते हैं।

5.वॉयर स्प्रिंग (Wire Spring)

इस स्प्रिंग का उपयोग (use) की पाई के कवर को पोजीशन में सेट रखने के लिए किया जाता है। जब कवर को अलग करने की आवश्यकता होती है तो इस स्प्रिंग (Spring) को रिलीज करके कवर को हटाया जा सकता है।

6.लीफ स्प्रिंग (Leaf Spring)

इस प्रकार के स्प्रिंग को स्टील की फ्लैट स्ट्रिपों (Flat strips) से बनाया जाता है जो कि अपनी ऊर्जा को बैंडिंग के द्वारा प्राप्त करते हैं।

7.हेलिकाल टोर्शन स्प्रिंग (Helical Torsion Spring)

इस प्रकार के स्प्रिंगों का उयोग प्रायः साइकिल (bicycle) के केरियर तथा पैड के क्लिपों आदि के लिए किया जाता है। इस प्रकार का स्प्रिंग क्लोज्ड क्वॉयल या ओपन क्वॉयल में पाया जाता है।

दोस्तों, यदि आपको स्प्रिंग के प्रकार पोस्ट अच्छी लगी हो तो कमेंट करके बताएं और हमसे जुड़ने के लिए टेलीग्राम चैनल को ज्वॉइन करें।

More Information:- स्प्रिंग किसे कहते हैं?

Leave a Reply

Your email address will not be published.