1. Home
  2. /
  3. Others
  4. /
  5. क्रैंक शाफ्ट (Crank Shaft) क्या है in Hindi

क्रैंक शाफ्ट (Crank Shaft) क्या है in Hindi

दोस्तों, आईटीआई कोर्स डॉट कॉम में आपका स्वागत है, आज की इस पोस्ट में क्रैंक शाफ्ट (Crank Shaft) क्या है in Hindi? क्रैंक शाफ्ट के भाग आदि के बारे में बताया है। यदि आप जानकारी पाना चाहते हो तो पोस्ट को पढ़िए और जानकारी प्राप्त कीजिए।

क्रैंक शाफ्ट (Crank Shaft) क्या है in Hindi?

यह एक यांत्रिक युक्ति (mechanical device) है, जो कि प्रत्यागामी गति और घूर्णन गति में परस्पर परिवर्तन या बदलाव करती रहती है।

पॉवर ट्रांसमिशन सिस्टम में क्रैंक शाफ्ट ही पहला पार्ट है, जिस पर पिस्टन का रेसीप्रोकेटिंग मोशन कनेक्टिंग रॉड की सहायता से वृत्तीय गति (Circular Motion) में परिवर्तित होता है।

iti online mock test
crank shaft kya hai in Hindi
Crank Shaft

क्रैंकशाफ्ट (Crank Shaft) व केमशाफ्ट टाइमिंग चेन या बेल्ट से जुड़ा होता है और यह एक-दूसरे के समांतर होते हैं।

क्रैंकशाफ्ट अलॉय स्टील से कास्टिंग या फोर्जिंग द्वारा बनाई जाती है जिस पर हीट ट्रीटमेंट किया जाता है।

क्रैंकशाफ्ट पर ग्राइंडिंग तथा मशीनिंग द्वारा कनेक्टिंग रॉड तथा मेन बियरिंग के जनरल्स बनाए जाते हैं।

क्रैंकशाफ्ट और केमशाफ्ट (Crank Shaft and Cam Shaft) का अनुपात 2:1 होता है।

क्रैंक शाफ्ट के भाग (Parts of Crank Shaft)

इसके भाग निम्नलिखित प्रकार से है-

1.क्रैंकपिन (Crankpin)

क्रैंकपिन इंजन का एक यांत्रिक भाग (Mechanical part) है। जो कनेक्टिंग रॉड को क्रैंकशाफ्ट से बहुत मजबूती से जोड़ने की अनुमति देता है।

क्रैंकपिन की सतह बेलनाकार (Cylinderical) होती है, जो कनेक्टिंग रॉड के बड़े सिरे को घूर्णन बल देती है। इन्हें कनेक्टिंग रॉड जर्नल्स के रूप में भी जाना जाता है।

2.मेन जर्नल्स (Main Journals)

जर्नल्स को इंजन ब्लॉक (Engine Block) से जोड़ा गया है। यह बियरिंग क्रैंकशाफ्ट (Crank Shaft) को पकड़ते हैं और इसे इंजन ब्लॉक के अंदर घुमाने के लिए प्रदान करते हैं। यह बियरिंग प्लेन बियरिंग या जर्नल बियरिंग की तरह है।

3.क्रैंक वेब (Crank web)

क्रैंक वेब, क्रैंकशाफ्ट का सबसे महत्वपूर्ण भाग है। क्रैंक वेब क्रैंकशाफ्ट को मेन बियरिंग जर्नल्स से जोड़ता है।

4.काउंटरवेट्स (Counterweights)

काउंटरवेट एक प्रकार का वजन है, जो विपरीत बल लागू करता है, जो क्रैंकशाफ्ट को संतुलन और स्थिरता प्रदान करता है। ये क्रैंक वेब पर लगे होते हैं।

क्रैंकशाफ्ट (Crank Shaft) में काउंटरवेट स्थापित करने का कारण यह है कि वह रोटेशन के कारण होने वाली प्रतिक्रिया को समाप्त कर सकते हैं। और यह उच्च RPM प्राप्त करने में बहुत सहायक होता है और इंजन को आसानी से चलाता है।

5.थ्रस्ट वाशर (Thrust Washer)

कुछ बिंदुओं पर, क्रैंकशाफ्ट को लंबाई में बढ़ने से रोकने के लिए दो या दो से अधिक थ्रस्ट वाशर प्रदान किए जाते हैं। ये थ्रस्ट वाशर वेब में मशीनी सतहों और क्रैंकशाफ्ट सैडल के बीच इकट्ठे होते हैं।

थ्रस्ट वाशर की मदद से, इसे आसानी से गैप को बनाए रखा जा सकता है और क्रैंकशाफ्ट के लेटरल मूवमेंट को कम करने में मदद करता है। कई इंजनों में, इन्हें मुख्य बियरिंग्स के हिस्से के रूप में बनाया जाता है, आमतौर पर, पुराने प्रकार, अलग वाशर का उपयोग करते हैं।

6.ऑयल मार्ग और ऑयल सील्स

क्रैंकशाफ्ट (Crank Shaft), ऑयल मार्ग के माध्यम से मेन जर्नल्स से बड़े अंत जर्नल्स में तेल भेजता है। आमतौर पर क्रैंक वेब पर एक होल अर्थात् ड्रिल किया जाता है। जब क्रैंकपिन ऊपर की स्थिति में होता है और फायर बल कनेक्टिंग रॉड को नीचे की ओर धकेलते हैं, तो यह तेल को जर्नल और बेयरिंग के बीच प्रवेश करने की अनुमति देता है।

7.फ्लाईव्हील माउंटिंग फ्लैंगेस

ज्यादातर मामलों में, क्रैंकशाफ्ट फ्लैंगेस के माध्यम से फ्लाईव्हील से जुड़ जाता है। क्रैंकशाफ्ट व्हील एंड का व्यास दूसरे छोर से बड़ा होता है। यह फ्लाईव्हील माउंट करने के लिए एक निकला हुआ किनारा देता है।

दोस्तों, यदि आपको क्रैंक शाफ्ट (Crank Shaft) क्या है in Hindi? क्रैंक शाफ्ट के भाग आदि पोस्ट अच्छी लगी हो तो कमेंट करके बताएं और हमसे जुड़ने के लिए टेलीग्राम चैनल को ज्वॉइन करें।

More Information:- पिस्टन (Piston) किसे कहते हैं?

3 thoughts on “क्रैंक शाफ्ट (Crank Shaft) क्या है in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © 2019 -2023 All Rights Reserved iticourse.com