Apply Free Online Mock Test

पंच क्या है? | पंच के प्रकार

पंच (Punch) एक साधारण साधन है जो विभिन्न कार्यों, जैसे कि चिद्रण (होल पंचिंग), स्टाम्पिंग (अंकन), और पीनिंग (चिह्नित करने) के लिए उपयोग किया जाता है। इसे धातुओं, कागज, और अन्य सामग्रियों के साथ काम करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। Table of Contentsपंच के मुख्य भाग (Main Parts)पंच के विभिन्न प्रकार | Panch […]

फ्लेमिंग के बाएँ और दाएँ हाथ के नियम:

फ्लेमिंग के बाएं और दाएं हाथ के नियम विद्युत धारा, चुंबकीय क्षेत्र और चालक पर काम करने वाली बल के बीच संबंध को समझने के लिए एक सरल और सहज तरीका प्रदान करते हैं। फ्लेमिंग का बायां हाथ का नियम मोटर नियम के रूप में जाना जाता है और इसे चालक पर काम करने वाली […]

चुंबक और चुंबकत्व क्या है? | अंतर व प्रकार

नमस्कार दोस्तों आज के इस लेख में हम आपको बताने वाले हैं चुंबक और चुंबकत्व क्या होता है?, इसके क्या काम होते हैं?, इसके अनुप्रयोग ओर इसकी विस्तार में हम आपको जानकारी देने वाले हैं। तो चले जानते हैं चुंबक और चुंबकत्व के बारे में- चुंबकत्व और चुंबक: अदृश्य बल का परिचय चुम्बकों का उपयोग […]

मल्टीमीटर क्या है? | कार्य | उपयोग | प्रकार

एक मल्टीमीटर एक इलेक्ट्रॉनिक आँकड़े मापने वाला उपकरण है जो कई कार्यों को एक डिवाइस में जोड़ता है, जिसमें वोल्टेज, करंट, प्रतिरोध, निरंतरता और अन्य विद्युत पैरामीटर शामिल हैं। मल्टीमीटर का उपयोग करते समय, उचित सुरक्षा सावधानियों का पालन करना और कार्य के लिए उपयुक्त सेटिंग्स का उपयोग करना महत्वपूर्ण है। मल्टीमीटर क्या है और […]

केबल का काम क्या है? | सबसे अच्छी केबल कौन सी होती है?

एक केबल तारों का एक समूह है जो एक साथ बंधे होते हैं और एक एकल विद्युत कंडक्टर बनाते हैं। तार की तरह, केबल का उपयोग विद्युत प्रवाह को विद्युत स्रोत से उपकरणों या अन्य विद्युत घटकों में संचारित करने के लिए किया जाता है। केबल्स आमतौर पर उन अनुप्रयोगों में उपयोग किए जाते हैं […]

तार क्या है? | धारा वहन क्षमता | तार की विशिष्टताएं

विद्युत धारा के निरन्तर प्रवाह के लिए मार्ग प्रस्तुत करने वाल गोलाकार क्रॉस सेक्शन वाला बिना आवरण का चालक अथवा आवरण युक् ‘ इन्सुलेटेड ‘ चालक , तार कहलाता है

टॉप 10 इलेक्ट्रीशियन टूल | top 10 electrician tools

इलेक्ट्रीशियन टूल वे टूल होते हैं जिनका उपयोग इलेक्ट्रीशियन द्वारा विद्युत प्रणालियों को स्थापित करने, मरम्मत करने और बनाए रखने के लिए किया जाता है। इन टूलों में सरौता, वायर स्ट्रिपर्स और स्क्रू ड्रायर्स जैसे हाथ के टूल शामिल हो सकते हैं, साथ ही बिजली के टूल जैसे ड्रिल और आरी जिन्हें विद्युत प्रणालियों के […]

ट्रांसफॉर्मर का वर्गीकरण | Classification of Transformer

ट्रांसफार्मर की विशिष्ट विशेषताओं या अनुप्रयोगों के आधार पर ट्रांसफार्मर को वर्गीकृत ( Classification of Transformer ) करने के कई अलग-अलग तरीके हैं। ट्रांसफार्मर की कुछ सामान्य श्रेणियों में शामिल हैं: पावर ट्रांसफॉर्मर: इनका उपयोग विद्युत शक्ति को एक एसी सर्किट से दूसरे में स्थानांतरित करने के लिए किया जाता है, और आमतौर पर वोल्ट-एम्पीयर […]

ट्रांसफॉर्मर का कार्य सिद्धान्त?

ट्रांसफॉर्मर म्युचुअल प्रेरण के सिद्धान्त पर कार्य करता है। म्युचल प्रेरण के अनुसार जब प्राइमरी वाइन्डिंग में ए.सी. सप्लाई दी जाती है तो इस वाइन्डिंग के चारों और बदलता हुआ चुम्बकीय क्षेत्र बनता है। इसी चुम्बकीय क्षेत्र के मध्य रखी सैकण्डरी वाइन्डिंग में e.m.f. उत्पन्न हो जाता है। जबकि दोनों वाइन्डिंगों के मध्य किसी प्रकार […]

तुल्यकालिक मोटर पर लोड बढ़ाने का प्रभाव | फेजर आरेख | उत्तेजना का प्रभाव

सिंक्रोनस मोटर पर लोड बढ़ने से मोटर अधिक करंट खींचेगी और अधिक टॉर्क देगी। इससे मोटर अधिक गर्म हो सकती है और लोड में वृद्धि बहुत अधिक होने पर संभावित रूप से इसके थर्मल अधिभार संरक्षण को ट्रिप कर सकती है। लोड बढ़ने पर मोटर की गति भी थोड़ी कम हो सकती है, क्योंकि टॉर्क […]

तुल्यकालिक मोटर क्या है?, संरचना ओर कार्य सिद्धांत?

एक तुल्यकालिक मोटर में, मशीन के भीतर रोटर और परिक्रामी क्षेत्र समान गति से घूमते हैं। स्टेटर, जो एक इंडक्शन मोटर के समान है, में एक बेलनाकार लोहे का फ्रेम होता है जिसमें आंतरिक परिधि के चारों ओर स्लॉट्स में स्थित तीन-चरण वाइंडिंग्स होते हैं। तुल्यकालिक मोटर की संरचना एक तुल्यकालिक मोटर में दो मुख्य […]

इलेक्ट्रॉन क्या है? | इलेक्ट्रॉन के प्रकार | उदाहरण

इलेक्ट्रॉन उप-परमाणु कण होते हैं जिनमें एक प्राथमिक इकाई का ऋणात्मक विद्युत आवेश होता है। उन्हें लेप्टान के रूप में वर्गीकृत किया जाता है, कणों का एक समूह जिसमें इलेक्ट्रॉन और अन्य, अधिक भारी कण शामिल होते हैं। कई वैज्ञानिक इलेक्ट्रॉनों को प्राथमिक कण मानते हैं, जिसका अर्थ है कि उनके पास कोई ज्ञात आंतरिक […]