1. Home
  2. /
  3. Electrician course
  4. /
  5. विद्युत झटका किसे कहते हैं? | प्रभाव | करंट सहन करना

विद्युत झटका किसे कहते हैं? | प्रभाव | करंट सहन करना

एक विद्युत झटका तब होता है जब एक विद्युत प्रवाह एक जीवित आउटलेट से शरीर के हिस्से में जाता है। विद्युत झटका शारीरिक प्रतिक्रिया या चोट है जो (मानव) शरीर से गुजरने वाले विद्युत प्रवाह के कारण होती है। आमतौर पर, अभिव्यक्ति का उपयोग बिजली के हानिकारक जोखिम का वर्णन करने के लिए किया जाता है। यह बिजली के किसी भी स्रोत के साथ (मानव) शरीर के अंग के संपर्क में होता है जो त्वचा, मांसपेशियों या बालों के माध्यम से पर्याप्त प्रवाह का कारण बनता है।

विद्युत झटका क्या है? | Vidyut jhatka kya hai?

विद्युत धारा का प्रवाह 90 वोल्टेज से अधिक वोल्टेज ( Voltage ) होने पर हमारे शरीर के आर-पार स्थापित हो जाता है, इससे हमें एक झटके का आभास होता है, इस आभास को विद्युत झटका ( Electric Shock ) कहते हैं। विद्युत क्षेत्र ( जैसे- बिजली घर ) एक संवेदनशील क्षेत्र है, इसमें काम के समय लगातार दुर्घटनाओं की संभावनाएं बनी रहती है।

Vidyut jhatka kya hai
विद्युत झटका

इसे भी पढ़ें- इलेक्ट्रिकल मेन्स किसे कहते हैं?

iti online mock test

विद्युत आघात का हमारे शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है? | Vidyut aaghaat ka hamaare shareer par kya prabhaav padata hai?

विद्युत झटका लगने पर हमारे शरीर में बहुत से नुकसान/हानियां हो सकती हैं, जो कि निम्न प्रकार से हैं-

  • हमारे शरीर पर छाले पड़ सकते हैं।
  • इसके झटके के कारण मनुष्य मूर्च्छित हो सकता है।
  • इससे किसी भी अंग का मांस जल सकता है।
  • विद्युत झटके के कारण रक्त प्रवाह हो सकता है।
  • इससे श्वास लेने में समस्या हो सकती है।
  • इसके झटके से ह्रदय गति भी रूक सकती है, जिसके कारण मृत्यु हो सकती है।
  • ए.सी. की तुलना में डी. सी. का विद्युत झटका अधिक खतरनाक होता है।

इसे भी पढ़ें- वोल्टमीटर क्या होता है?

मनुष्य का शरीर कितना करंट सहन कर सकता है? | Manushy ka shareer kitana karant sahan kar sakata hai?

यह निम्न प्रकार से है-

  1. 1 से 8 मिली एम्पियर तक की धारा- इस झटके की हमें अनुभूति होती है, लेकिन यह कष्टदायक नहीं होती है। इसको हम लोग आसानी से सहन कर सकते हैं।
  2. 8 से 15 मिली एम्पियर तक की धारा- यह झटका कष्टदायक होता है। लेकिन हमारा हमारे शरीर की नसों का नियंत्रण बना रहता है। इसलिए इसको सहन करना मनुष्य पर निर्भर करता है।
  3. 15 से 20 मिली एम्पियर तक की धारा- इसमें नसों का नियंत्रण नहीं रहता है। यह झटका भी कष्टदायक होता है। इसको मनुष्य सहन नहीं कर सकता है।
  4. 20 से 50 मिली एम्पियर तक की धारा- इस झटके के लगने पर हमारे शरीर की नसों में अधिक संकुचन होता है अर्थात् नसें सिकुड़ जाती हैं, जिसके कारण सांस लेना कठिन हो जाता है।
  5. 50 से 100 मिली एम्पियर तक की धारा- यह झटका लगने पर मनुष्य की सांस रूक जाती है। जिसके कारण दिल की धड़कन रूक जाती हैं। इसलिए इसमें मृत्यु संभव है।
  6. 100 मिली एम्पियर से अधिक धारा- इस झटके से शरीर जल सकता है। इस झटके से नसें सिकुड़ जाती हैं और दिल की धड़कन भी बंद हो जाती है। जिसके कारण इसमें मनुष्य की मृत्यु निश्चित होती है।

इसे भी पढ़ें- स्पार्क प्लग किसे कहते हैं? | स्पार्क प्लग के प्रकार

Vidyut Jhatka Qna-

चिड़ियों को करंट क्यों नहीं लगता है?

चिड़ियां केवल बिजली के एक ही तार पर बैठती हैं। उनके दोनों पैर एक ही तार पर होते हैं। इसलिए सर्किट पूरा नहीं हो पाने के कारण चिड़ियों को करंट नहीं लगता है। यदि किसी कारणवश तार पर बैठी चिड़िया के पंख दूसरे तार से टकरा जाते हैं तब उसको करंट लग सकता है।

गूगल करंट लगने से क्या होता है?

दोस्तों, जब भी किसी प्राणी या मनुष्य को करंट लगता है तब करंट शरीर के पानी को जला देता है। पानी जल जाने के कारण रक्त भी गाढ़ा हो जाता है। हमारे रक्त में ऑक्सीजन घुली होती है। रक्त के गाढ़ा हो जाने के कारण हमारे शरीर के अंगों को अच्छी तरह से ऑक्सीजन नहीं मिल पाती है।

बिजली के झटके का क्या कारण है?

बिजली का झटका तब लगता है जब एक विद्युत प्रवाह शरीर से होकर गुजरता है। बिजली के झटके से चोट तब लगती है जब कोई व्यक्ति गलती से किसी बिजली के स्रोत के संपर्क में आता है, जैसे- टूटी हुई तार या बिजली की लाइन।

जब मैं लाइट स्विच को छूता हूं तो मुझे झटका क्यों लगता है?

शुष्क हवा में स्थैतिक बिजली का निर्माण होता है क्योंकि शरीर से आवेशों को दूर करने के लिए हवा में नमी नहीं होती है। जब आप धातु की वस्तुओं को छूते हैं तो ये आवेश निकल जाते हैं, और आप थोड़ी झपकी महसूस कर सकते हैं। इसकी अप्रियता के अलावा, यह हानिरहित है।

क्या स्टैटिक झटका आपको जला सकता है?

झटके से जलन हो सकती है जहां करंट आपके शरीर में प्रवेश करता है और छोड़ देता है। बिजली ने रक्त वाहिकाओं, नसों और मांसपेशियों को घायल कर दिया हो सकता है। बिजली आपके दिल और फेफड़ों को भी प्रभावित कर सकती थी। हो सकता है कि झटके के बाद 10 दिनों तक आपको झटके से हुए सभी नुकसान दिखाई न दें।

2 thoughts on “विद्युत झटका किसे कहते हैं? | प्रभाव | करंट सहन करना

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © 2019 -2023 All Rights Reserved iticourse.com