No ratings yet.

चार्ल्स का नियम (Charles Law)

चार्ल्स का नियम (Charles Law)

दोस्तों, मैंने इस पोस्ट में चार्ल्स के नियम का वर्णन किया है, और इसके कुछ सवालों का जिक्र किया है। यदि आप पढ़ना चाहते हो तो पोस्ट को पूरा पढ़िए। तो चलिए शुरू करते हैं-

चार्ल्स का नियम (Charles’ Law)

यह नियम आदर्श गैसों पर लागू होता है, इस नियम के अनुसार, “स्थिर दाब पर किसी गैस का दिया गया आयतन उसके ताप के समानुपाती होता है।”

Charles Law
Charles Law

दोस्तों, जब गैस पर लगने वाला दाब नियत हो, तब गैस का तापमान बढ़ाने पर गैस का आयतन बढ़ जाएगा।

जब गैस का तापमान कम कर दें, तब गैस का आयतन कम हो जाएगा।

 V ∝ T
 V = TK
 V/T = K

जहां, V = गैस का आयतन
T = तापमान
K = यह एक नियतांक है

More Information:- बॉयल का नियम

इसी प्रकार स्थिर दाब पर किसी गैस की निश्चित मात्रा का आयतन V1, V2, V3 हों और तापमान T1, T2, T3 आदि हों, तो
V1/T1 = V2/T2 = V3/T3 = ….. = K (नियतांक)

उदाहरण:- एक 50 × 60 × 50 मीटर³ चैम्बर में हवा को 27° से 75° तक गर्म किया जाए। तब कितनी हवा बाहर निकल जाएगी।

हल:- चैम्बर का आयतन = 50 × 60 × 50
= 150000 मीटर³
V1 = 150000 मीटर³
T1 = 27° = 27 + 273 = 300°C
T2 = 75° = 75 + 273 = 348°C
V2 = ?

सूत्र से, V1/T1 = V2/T2

V2 = V1T2/T1
V2 = 150000 × 348/300
V2 = 174000 मीटर³

निकली हवा = V2 – V1
= 174000 – 150000
निकली हवा = 24000 मीटर³

दोस्तों, यदि आपको चार्ल्स का नियम की पोस्ट अच्छी लगी हो तो कमेंट व शेयर करें।

Telegram पर जुड़ने के लिए नीचे लिंक पर क्लिक करें:-

CLICK HERE:- Telegram Group

2 thoughts on “चार्ल्स का नियम (Charles Law)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

downlaod app