1. Home
  2. /
  3. Machinist
  4. /
  5. सुपर फिनिशिंग से क्या तात्पर्य है?

सुपर फिनिशिंग से क्या तात्पर्य है?

दोस्तों, आज की पोस्ट में आपको सीखने को मिलेगा, कि सुपर फिनिशिंग से क्या तात्पर्य है? के बारे में बताया है, यदि आप जानकारी पाना चाहते हो तो पोस्ट को पूरा पढ़िए।

सुपर फिनिशिंग से क्या तात्पर्य है?

सुपर फिनिशिंग (Super Finishing) के द्वारा उच्च कोटि की सर्फेस को बनाया जाता है। यह प्रोसेस होनिंग के समान बॉण्डेड एब्रेसिव स्टोन के द्वारा की जाती है, लेकिन इस प्रोसेस में धातु की बहुत महीन परत ही सर्फेस से अलग की जा सकती है।

super finishing
Super Finishing

इसके स्टोन बनाने के लिए एब्रेसिव पदार्थ का बहुत महीन पाउडर उपयोग किया जाता है। इसका ग्रेन साइज 400 से 600 तक होता है। इसकी छड़ें (sticks) बनाकर एक विशेष प्रकार के होल्डर में पकड़कर कार्यखंडों की सर्फेसों के सम्पर्क में लाई जाती हैं। होल्डर को स्प्रिंग के प्रभाव में कार्यखंड (Job) के विरूद्ध दबाया जाता है।

iti online mock test

बेलनाकार कार्यखंड की सुपर फिनिशिंग के लिए कार्यखंड को दो केंद्रों पर घुमाया जाता है और स्टिक होल्डर को उच्च आवृत्ति (High Frequency) पर कम्पित (oscillate) कराया जाता है।

इसके साथ ही होल्डर को बहुत हल्की फीड दी जाती है। कार्यखंड को 2 से 20 मीटर प्रति मिनट की स्पीड पर घुमाया जाता है तथा एब्रेसिव छड़ों को होल्डर सहित 2 से 5 मिमी के स्ट्रोक में 500 से 1800 स्ट्रोक प्रति मिनट की आवृत्ति (frequency) पर 0.1 से 0.15 मिमी प्रति चक्कर की फीड पर आगे बढ़ाया जाता है।

सुपर फिनिशिंग विधि के स्नेहन (lubrication) के लिए कैरोसिन तथा सोल्यूबल ऑयल का मिश्रण उपयोग किया जाता है। कभी-कभी यह प्रक्रिया साधारण लेथ मशीन पर भी की जा सकती है।

सुपर फिनिशिंग के लाभ

सुपरफिनिशिंग के कई फायदे हैं, जिनमें से एक सख्त सहनशीलता है। अधिकांश परिष्करण प्रक्रियाओं में वर्कपीस से सामग्री को पीसने और निकालने के लिए अपघर्षक का उपयोग शामिल होता है – और सुपरफिनिशिंग कोई अपवाद नहीं है।

हालांकि, यह अन्य परिष्करण प्रक्रियाओं की तुलना में महीन दाने वाले अपघर्षक का उपयोग करता है। सुपरफिनिशिंग अपघर्षक के लिए केवल 5 से 8 माइक्रोन का दाना होना असामान्य नहीं है। इतने महीन दाने के साथ, ये अपघर्षक सख्त सहनशीलता के साथ वर्कपीस बनाने में सक्षम हैं।

अन्य परिष्करण प्रक्रियाओं की तुलना में वर्कपीस को सील करने के लिए सुपरफिनिशिंग भी बेहतर अनुकूल है। यह इस तथ्य के कारण है कि वे अधिक परिष्कृत सतह बनाते हैं। अत्यधिक वातावरण में उपयोग किए जाने वाले वर्कपीस के लिए जहां नमी एक चिंता का विषय है, सुपरफिनिशिंग नमी के प्रवेश के खिलाफ अधिक सुरक्षा प्रदान कर सकती है। ये सुपरफिनिशिंग के कुछ अनूठे फायदे हैं।

1.सुपर फिनिशिंग से कितनी पतली परत को हटाया जा सकता है?

इसके द्वारा 0.005 मिमी से 0.02 मिमी की पतली परत को हटाया जाता है।

2.सर्फेस फिनिशिंग क्या है?

सर्फेस फिनिशिंग से आशय विविध मशीनी प्रक्रमों में उनकी कुछ या सभी सतहों की फिनिशिंग से है। किसी कार्यखंड की सतह पर स्मूथनैस एवं रफनैस के बीच संबंध को सतह परिष्कृत (Surface Finishing) कहा जाता है।

3.सुपर फिनिशिंग किसके द्वारा की जाती है?

होनिंग के समान बॉण्डेड एब्रेसिव स्टोन के द्वारा सुपर फिनिशिंग की जाती है।

दोस्तों, यदि आपको सुपर फिनिशिंग से क्या तात्पर्य है? पोस्ट अच्छी लगी हो तो कमेंट करके बताएं और हमसे जुड़ने के लिए टेलीग्राम चैनल को ज्वाइन करें।

More Information:- लैपिंग कैसे की जाती है?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © 2019 -2023 All Rights Reserved iticourse.com