No ratings yet.

शून्यांक त्रुटि किसे कहते हैं?

शून्यांक त्रुटि किसे कहते हैं?

दोस्तों, आईटीआई कोर्स डॉट कॉम में आपका स्वागत है, आज की इस पोस्ट में शून्यांक त्रुटि किसे कहते हैं? के बारे में बताया है, यदि आप जानकारी पाना चाहते हो तो पोस्ट को पूरा पढ़िए।

शून्यांक त्रुटि किसे कहते हैं?

किसी टूल के उपयोग से अथवा उसके निर्माण में दोष से टूल में शून्यांक त्रुटि (Zero error) आ जाती है।

custom print service

यह त्रुटि (error) मुख्यत: दो प्रकार की होती है, यह प्रत्येक टूल में अपने-अपने वर्किंग मेथड से प्राप्त होती है।

माइक्रोमीटर की शून्यांक त्रुटि (zero error) क्या है?

माइक्रोमीटर की शून्यांक त्रुटि (zero error of micrometer) चेक करने के लिए माइक्रोमीटर के स्पिंडल और एनविल को आपस में संपर्क (contact) में लाने के बाद यह देखा जाता है, कि थिम्बल की जीरो, स्लीव (sleeve) की डेटम लाइन के साथ मिल रही है या नहीं मिल रही है।

custom print service
shoonyank truti
zero error
custom print service

यदि थिम्बल (thimble) का जीरो डेटम लाइन से मिल रहा हो तो समझ लेना चाहिए। कि शून्यांक त्रुटि नहीं है। यदि थिम्बल का जीरो डेटम लाइन से नहीं मिलता है अर्थात् आगे या पीछे रह जाता है। तो समझ लेना चाहिए कि माइक्रोमीटर (Micrometer) में शून्यांक त्रुटि है। माइक्रोमीटर में शून्यांक त्रुटि निम्नलिखित दो प्रकार (two types) की होती है-

1.धनात्मक शून्यांक त्रुटि (Positive zero error)

यदि माइक्रोमीटर के थिम्बल का जीरो स्लीव की डेटम लाइन से पीछे रह जाता है, तो वह धनात्मक शून्यांक त्रुटि (Positive zero error) कहलाता है।
रीडिंग लेने के बाद कुल रीडिंग में से इस शून्यांक त्रुटि को घटाने पर सही रीडिंग आ जाएगी।

2.ऋणात्मक शून्यांक त्रुटि (Negative zero error)

यदि माइक्रोमीटर के थिम्बल का जीरो स्लीव की डेटम लाइन से आगे बढ़ जाता है, तो वह ऋणात्मक शून्यांक त्रुटि (Negative zero error) कहलाता है।
रीडिंग लेने के बाद कुल रीडिंग में से इस शून्यांक त्रुटि को जोड़कर सही रीडिंग प्राप्त हो जाती है।

माइक्रोमीटर की शून्यांक त्रुटि ठीक करने के विधि

माइक्रोमीटर की शून्यांक त्रुटि को ठीक करने के लिए स्लीव को ‘C’ स्पैनर से समायोजित करके सही कर सकते हैं।

custom print service

वर्नियर कैलिपर की शून्यांक त्रुटि क्या है?

वर्नियर कैलिपर (Vernier caliper) की शून्यांक त्रुटि चेक करने के लिए वर्नियर कैलिपर के दोनों जबड़ों को आपस में संपर्क में लाने के बाद यह देखा जाता है, कि वर्नियर स्केल (Vernier Scale) का जीरो मेन स्केल के जीरो के साथ मिल रही है या नहीं मिल रही है।

यदि वर्नियर स्केल का जीरो मेन स्केल (main scale) के जीरो से मिल रहा हो तो समझ लेना चाहिए। कि शून्यांक त्रुटि नहीं है। यदि वर्नियर स्केल का जीरो मेन स्केल के जीरो से नहीं मिलता है अर्थात् दांयी या बांयी (Right or Left) ओर रह जाता है। तो समझ लेना चाहिए कि वर्नियर कैलिपर में शून्यांक त्रुटि है। वर्नियर कैलिपर (Vernier Caliper) में शून्यांक त्रुटि निम्नलिखित दो प्रकार की होती है-

1.धनात्मक शून्यांक त्रुटि (Positive zero error)

यदि वर्नियर कैलिपर के वर्नियर स्केल का जीरो मेन स्केल के जीरो से दांयी ओर रह जाता है, तो वह धनात्मक शून्यांक त्रुटि (positive zero error) कहलाती है।
इस स्थिति में यह देखकर कि वर्नियर स्केल का कौन-सा चिन्ह मेन स्केल के किसी चिन्ह के ठीक सामने या समपाती है। इस संपाती चिन्ह में अल्पतमांक (Least Count) का गुणा कर शून्यांक त्रुटि का निर्धारण करते हैं।

2.ऋणात्मक शून्यांक त्रुटि (Negative zero error)

यदि वर्नियर कैलिपर के वर्नियर स्केल का जीरो मेन स्केल के जीरो से बांयी रह जाता है, तो वह ऋणात्मक शून्यांक त्रुटि (Negative zero error) कहलाती है।
ऋणात्मक शून्यांक त्रुटि का निर्धारण, धनात्मक शून्यांक त्रुटि (zero error) की तरह करते हैं।

1.मीट्रिक पद्धति में माइक्रोमीटर का अल्पतमांक कितना होता है?

मीट्रिक पद्धति में माइक्रोमीटर का अल्पतमांक 0.01 मिमी होता है।

2.ब्रिटिश पद्धति में माइक्रोमीटर का अल्पतमांक कितना होता है?

ब्रिटिश पद्धति में माइक्रोमीटर का अल्पतमांक 0.001 इंच होता है।

3.मीट्रिक पद्धति में वर्नियर कैलिपर का अल्पतमांक कितना होता है?

मीट्रिक पद्धति में वर्नियर कैलिपर का अल्पतमांक 0.02 मिमी होता है।

4.ब्रिटिश पद्धति में वर्नियर कैलिपर का अल्पतमांक कितना होता है?

ब्रिटिश पद्धति में वर्नियर कैलिपर का अल्पतमांक 0.001 इंच होता है।

दोस्तों, यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो कमेंट करके बताएं और हमसे जुड़ने के लिए टेलीग्राम चैनल को ज्वाइन करें।

इन्हे भी पढ़ें:-

custom print service

5 thoughts on “शून्यांक त्रुटि किसे कहते हैं?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *