ट्रांसफार्मर के बारे में जानें
x

ट्रांसफार्मर के बारे में जानें

नमस्कार दोस्तों आज की इस पोस्ट में आपको बताने वाला हूँ ट्रांसफार्मर क्या हे, और इसका कार्य सिद्धांत। तो चलिए जानते हे ट्रांसफार्मर के बारे में, और मेरा नाम है राजेंद्र सिंह और आप देख रहे हैं iticourse.com तो चलिए सुरु करते है।

ट्रांसफार्मर का कार्य सिद्धांत

दोस्तों, एक ट्रांसफार्मर का कार्य सिद्धांत बहुत सरल और आसान होता है। इसमें दो या दो से अधिक वाइंडिंग (जिन्हे कॉइल्स के रूप में भी जाना जाता है) के बीच आपसी स्व प्रेरण विद्युत ऊर्जा को सर्किटों के बीच स्थानांतरित करने की अनुमति देता है। इस सिद्धांत को नीचे विस्तार से समझाया गया है।

ट्रांसफार्मर के बारे में जानें
x
ट्रांसफार्मर के बारे में जानें

ट्रांसफार्मर सिद्धांत:-

मान लें कि आपके पास एक घुमावदार तार है (जिसे कुंडल के रूप में भी जाना जाता है) जो एक वैकल्पिक विद्युत स्रोत द्वारा आपूर्ति की जाती है। घुमावदार के माध्यम से प्रत्यावर्ती धारा एक निरंतर बदलते और बारी-बारी से प्रवाह को उत्पन्न करती है जो की घुमावदार को घेर लेती है। यदि एक और वाइंडिंग को इस वाइंडिंग के करीब लाया जाता है।

तो इस अल्टरनेटिंग फ्लक्स का कुछ हिस्सा दूसरी वाइंडिंग के साथ जुड़ जाएगा। जैसा कि यह प्रवाह लगातार अपने आयाम और दिशा में बदल रहा है, दूसरी घुमावदार या कॉइल में एक बदलती प्रवाह कड़ी होनी चाहिए।

ट्रांसफार्मर की परिभाषा

dosto ट्रांसफार्मर एक स्थिर उपकरण है जो विद्युत ऊर्जा को विद्युत चुम्बकीय प्रेरण की प्रक्रिया के माध्यम से एक सर्किट से दूसरे सर्किट में स्थानांतरित करता है। और इसका उपयोग आमतौर पर सर्किट के बीच विद्युत ऊर्जा को बढ़ाने स्टेप अप ’) या घटाने टने (‘ स्टेप डाउन ’) अर्थात वोल्टेज के स्तर को बढ़ाने के लिए किया जाता है।

Read more: advantages and disadvantages

iti online mock test

10 thoughts on “ट्रांसफार्मर के बारे में जानें

Leave a Reply

Your email address will not be published.