1. Home
  2. /
  3. Wireman
  4. /
  5. डी. सी. मोटर की हानियां

डी. सी. मोटर की हानियां

दोस्तों, मैंने इस पोस्ट में डी. सी. मोटर की हानियां के बारे में बात की है, यदि आप जानकारी पाना चाहते हो तो पोस्ट को पूरा पढ़िए।

डी. सी. मोटर की हानियां (Losses in D.C. Motors)

मोटर के चलते रहने या उपयोग में लाने से मोटर में मुख्यत: तीन प्रकार की हानियां होती हैं, जो कि निम्न प्रकार से हैं-

Read More: दिष्ट धारा जनित्र (DC generator) का सिद्धांत समझाइए।

iti online mock test

1.लौह हानि (Iron Loss)

आर्मेचर तथा फील्ड के क्रोडों में होने वाली इलेक्ट्रिक पावर की हानि, लौह हानि (Iron Loss) कहलाती है। यह हानि दो प्रकार की होती है-

(i)हिस्टेरैसिस हानि

इस हानि को कम करने के लिए कम हिस्टेरैसिस गुणांक पदार्थ का उपयोग किया जाता है। यह तापमान पर निर्भर नहीं करता है।

डी. सी. मोटर क्या है? डी. सी. मोटर के प्रकार
(ii)एड्डी धारा हानि

इस हानि को कम करने के लिए क्रोड को लेमिनेटेड बनाया जाता है।

2.कॉपर हानि (Copper Loss)

यह इलेक्ट्रिक पावर की वह हानि है, जो आर्मेचर तथा फील्ड वाइंडिंग के प्रतिरोध व ब्रशेज के सम्पर्क प्रतिरोध के कारण पैदा होती है।

3.यांत्रिक हानि (Mechanical Loss)

आर्मेचर में वायु के घर्षण से, ब्रशों के कम्यूटेटर घर्षण से तथा बियरिंग के घर्षण से होने वाली हानि यांत्रिक हानि (Mechanical Loss) कहलाती है।

दोस्तों, यदि आपको डी. सी. मोटर की हानियां पोस्ट अच्छी लगी हो तो कमेंट करके बताएं।

More Information:- डी. सी. मोटर क्या है?

Telegram पर जुड़ने के लिए नीचे लिंक पर क्लिक करें:-

CLICK HERE:- Telegram Group

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © 2019 -2023 All Rights Reserved iticourse.com