ट्रेड परिचय एवं प्रशिक्षण
x

ट्रेड परिचय एवं प्रशिक्षण

दोस्तों, इस पोस्ट में आपको ट्रेड परिचय एवं प्रशिक्षण के बारे में बताया है, कि जब आपको यह प्रैक्टिकल लिखना हो तो आप इस प्रकार लिखेंगे।

ट्रेड परिचय एवं प्रशिक्षण

इस प्रैक्टिकल को लिखने के लिए आपको सबसे पहले उद्देश्य हेडिंग लिखी जाती है, जिसके बारे में विस्तृत से जानेंगे।

Trade introduction and training
x
Trade Introduction and Training

1.उद्देश्य (object)

फिटर ट्रेड का परिचय तथा प्रशिक्षण का ज्ञान अर्जित करना।

2.परिचय (Introduction)

किसी भी मशीन को फिट करने वाला तकनीशियन ही फिटर कहलाता है तथा वह स्थान जहां फिटिंग की जाती है, उसे वर्कशॉप कहते हैं। वह ट्रेड जिसमें फिटिंग की क्रिया सम्पन्न की जाती है, वह फिटर ट्रेड कहलाता है। इस ट्रेड के अंतर्गत प्रशिक्षु को प्रशिक्षित किये जाने की निर्धारित प्रक्रिया है जिसके अंतर्गत प्रशिक्षु को पाठ्य व व्यावहारिक क्रियाओं में सामंजस्य स्थापित करते हुए प्रशिक्षित किया जाता है।

3.आवश्यक सामग्री/उपकरण (Essential Material/ Apparatus

ट्रेड परिचय अर्जन के लिए ऐसी किसी सामग्री की तो आवश्यकता नहीं होती परंतु पर्याप्त जिज्ञासा की आवश्यकता है, साथ में संबंधित मैनुअल की भी।

4.सुरक्षा सावधानियां

  1. ट्रेड से जुड़ने के लिए सबसे पहले अपने-आप को मानसिक रूप से तैयार करना चाहिए।
  2. वर्कशॉप में कभी भी नंगे पैर नहीं जाना चाहिए अन्यथा पैर धातु की चिप्स लग सकती हैं।
  3. वर्कशॉप में जहां तक संभव हो चुस्त कपड़े पहले ढीले कपड़े पहनने पर दुर्घटना होने की संभावना बनी रहती है।
  4. कभी भी चलती मशीन के भागों को नहीं छूना चाहिए।
  5. वर्कशॉप से संबंधित टूलों की पहचान को जानने का प्रयास करें।
  6. वर्कशॉप से संबंधित मैनुअल का निरीक्षण अवश्य करें।
  7. संबंधित गतिविधियों में गतिविधि के अनुसार सुरक्षा साधनों का उपयोग करें।

5.कार्यविधि (Working Method)

  1. सबसे पहले ‘फिटर‘ ट्रेड संबंधी मूल कार्यिकी को जानने का प्रयास करते हैं।
  2. ट्रेड के भावी विस्तार व कैरियर में उसकी उपयोगिता से अवगत होते हैं।
  3. ट्रेड मैनुअल का भली प्रकार अध्ययन करते हैं, जो कि आगे कार्यशाला में कार्य के दौरान सहायक होगा।
  4. ट्रेड से परिचित होने के उपरांत प्रशिक्षक के निर्देशों का संज्ञान उपयुक्त परिप्रेक्ष्य में लेते हैं।
  5. प्रशिक्षक के द्वारा कार्यिकी को समझाने के दौरान किसी भी रूप में लापरवाही नहीं बरतते।
  6. ध्यानपूर्वक देखते हैं कि मशीन फिटिंग में मशीनी भागों को फिट किया जाता है।
  7. बेंच फिटिंग में कार्यखंडों को फिटिंग के लिए तैयार किया जाता है।
  8. पाइप फिटिंग में पाइप, एल्बो, ‘टी’ यूनियन आदि को पाइप लाइन के रूप में फिट किया जाता है।
  9. इस ट्रेड के अंतर्गत लौह शाला, धातु-चादर, वैल्डन तथा टर्निंग का काम किया जाता है।
  10. एक प्रयोग के माध्यम से ट्रेड परिचय को जानते हैं व प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं।

6.परिणाम (Result)

सफलतापूर्वक फिटर ट्रेड के मूल परिचय को अर्जित किया गया।

More Information:- यूपी आईटीआई ऑनलाइन फॉर्म 2021

iti online mock test

8 thoughts on “ट्रेड परिचय एवं प्रशिक्षण

Leave a Reply

Your email address will not be published.