1. Home
  2. /
  3. Fitter course
  4. /
  5. टेल स्टॉक के बारे में

टेल स्टॉक के बारे में

टेल स्टॉक की फुल जानकारी

यह लेथ मशीन के आधार के दाईं ओर (Right side) का भाग है। इसे आधार (base) पर आगे-पीछे सरकाया जा सकता है। मशीन के आधार के पिछले भाग पर चिन्ह बने होते हैं तथा बॉडी पर जीरो चिन्ह अंकित रहता है, जब जीरो रेखाएँ एक-दूसरे से मिलती हैं तो टेल स्टॉक (tail stock) तथा हैड स्टॉक (head stock) की अक्ष एक सीध में होती हैं।

इसकी बॉडी कास्ट आयरन (cast iron) की बनी होती है। इसके नीचे कास्ट आयरन की एक बॉटम प्लेट होती है, जिसके बीच का कुछ भाग उभरा (convex) हुआ होता है। इसी उभरे भाग के अनुरूप बॉडी के नीचे खाँचा बना होता है। जिससे बॉडी ठीक से बॉटम प्लेट (bottom plate) पर बैठ जाए। बॉटम प्लेट के नीचे की ओर लेथ के बैड के अनुरुप खाँचे बने होते हैं। इन खाँचों पर टेल स्टॉक को खिसकाया (slide) जा सकता है। किसी भी स्थान पर बॉडी पर क्लैम्प करने के लिए एक क्लैम्प बोल्ट लगा होता है। इस बोल्ट के नीचे एक क्लैम्पिंग प्लेट (clamping plate) होती है, जिसकी सहायता से क्लैम्प बोल्ट को कसने पर टेल स्टॉक को क्लैम्प किया जा सकता है।
इसकी बॉडी का ऊपरी भाग खोखला (hollow) होता है, जिसमें एक स्लीव या बैरल एक स्पिण्डल की सहायता से चलता है। स्लीव को घूमने से रोकने के लिए एक “T” आकार (‘T’-shade) की ‘की’ (Key) बॉडी मेें लगी होती है। तथा बैरल या स्लीव में एक ‘की-वेे’ (‘Key-way’) बना होता है। स्पिण्डल एक बुश के द्वारा स्लीव से अटैच रहता है। बुश के अन्दर भी चूड़ियाँ (threads) कटी होती हैं। स्पिण्डल को घुमाने के लिए एक हैण्डिल वाला व्हील लगा होता है। स्लीव के दूसरे सिरे पर डैड सेन्टर लगाने के लिए मोर्स टेपर वाला होल रहता है। इसमें आवश्यकतानुसार डैड सेन्टर (dead centre) या टेपर शैंक ड्रिल (taper shank drill) या चक को पकड़ा जा सकता है। स्लीव की बाहरी सतह पर मिमी में निशान लगे होते हैं, जिससे स्लीव की बाहर निकली दूरी को नापा जा सके।

टेल स्टॉक के कार्य

इसका मुख्य कार्य (main work) जॉब को केन्द्रों के मध्य घुमाने (टर्न) के लिए आधार (base) उपलब्ध कराना है। इसमें मोर्स टेपर वाला एक बैरल होता है जिसे हैण्ड व्हील (hand wheel) द्वारा आगे-पीछे चलाया जाता है। इस बैरल को एक निश्चित स्थान पर स्थित भी किया जा सकता है। बैरल की गति (speed) दर्शाने के लिए इस पर चिन्ह बने होते हैं।
टेपर टर्निंग (taper turning) के लिए टेल स्टॉक को ऑफसैट (offset) किया जाता है।

iti online mock test

टेल स्टॉक के उपयोग

  1. इसका उपयोग (use) टेपर शैंक वाले ड्रिल, रीमर तथा ड्रिल चक जैसे टूल लगाने के लिए किया जाता है।
  2. इसका उपयोग टर्निंग के लिए लम्बे जॉब (long job) को आधार प्रदान करने हेतु डैड सेन्टर लगाने के लिए किया जाता है।

More Information:- हैड स्टॉक के बारे में

my website:- iticourse.com

One thought on “टेल स्टॉक के बारे में

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © 2019 -2023 All Rights Reserved iticourse.com