1. Home
  2. /
  3. Fitter course
  4. /
  5. लिमिट के बारे में

लिमिट के बारे में

लिमिट क्या है?

“किसी मूल साइज (Basic Size) में स्वीकृत (Permission) वह अधिकतम छूट जिस पर पार्ट्स बनाए जा सकते हैं उस साइज की लिमिट कहलाती है”।

वर्कशॉप में जब पुर्जों का उत्पादन (Production) किया जाता है, तो कारीगर को पार्ट्स के बेसिक साइजों को थोड़ा-सा बड़ा या छोटा बनाने की छूट दी जाती है। यह छूट इतनी दी जाती है कि इससे पार्ट पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। क्योंकि कई कारण ऐसे होते हैं। जिससे पार्ट को बिल्कुल ठीक परिशुद्ध (accurate) साइज में नहीं बनाया जा सकता हैे। जैसेे- सूक्ष्ममापी औजारों की गलती, मशीन (Machine) सेटिंग की गलती, टूल की खराबी आदि। के कारण पार्ट्स को बनाते समय साइज में कुछ अंतर (Different) आ सकता है। इसके अतिरिक्त यदि पार्ट्स को सही परिशुद्ध (accurate) माप में बना भी लिया जाए तो, समय अधिक लगता है, इसलिए पार्ट को बनाने के लिए सीमा निर्धारित कर दी जाती है। कि पार्ट को बेसिक साइज (basic size) से कितनी सीमा से अधिक या कम साइज में बनाया जा सकता है, इससे कारीगर को पार्ट के साइज बनाने में आसानी रहती है।और इस सीमा में बने पार्ट खराब भी नहीं होते। यदि शाफ्ट का बेसिक साइज 50 मिमी है, और उस – 0.02मिमी से + 0.02मिमी तक की छूट दे रखी हो,तो 50 मिमी बेसिक साइज वाले इस शाफ्ट को (50-0.02) 49.98 मिमी से (50+0.02) 50.02 मिमी के अंदर किसी भी साइज में बना सकते हैं।
Upper Limit=50+0.02=50.02 मिमी
Lower Limit=50-0.02=49.98 मिमी

More Information:- हैक्सॉ ब्लेड के दाँतों की सैटिंग के बारे

iti online mock test

लिमिट के प्रकार

1.Upper Limit

जॉब के अधिकतम साइज को प्रकट करने के लिए उसके मूल साइज में स्वीकृत (Permission) छूट को उसकी अपर लिमिट (Upper Limit) कहते हैं; जैसे- यदि बेसिक साइज=50 मिमी, छूट= +0.02मिमी,-0.02 मिमी
तो उसकी अपर लिमिट +0.02 मिमी
तथा अपर लिमिट साइज= 50.02 मिमी होगा।

2.Lower Limit

जॉब के न्यूनतम साइज को प्रकट करने के लिए उसके मूल साइज में स्वीकृत (Permission) छूट को उसकी लोअर लिमिट (Lower Limit) कहते हैं;
जैसे- जॉब की लोअर लिमिट= -0.02 मिमी
तथा लोअर लिमिट साइज=50.00-0.02=49.98 मिमी होगा।

Other Information

बेसिक साइज(Basic Size)

यहाँ पर मूल साइज (Basic Size) से हमारा तात्पर्य उस साइज से जिस पर छूट देकर उस साइज का सीमांकन (Limitation) किया गया है; जैसे- 50 +0.02मिमी,-0.02मिमी की विमा में मूल साइज (basic size) 50 मिमी है।

वास्तविक साइज(actual size)

वास्तविक साइज से हमारा तात्पर्य जॉब (Job) के उस साइज से है, जो मशीनिंग होने के बाद उसको मापने पर वास्तव में प्राप्त होता है। यदि वास्तविक साइज लोअर लिमिट साइज से अधिक तथा अपर लिमिट साइज से कम होता है तब जॉब को पास (OK) कर दिया जाता है परंतु यदि वास्तविक साइज, लोअर लिमिट से कम या अपर लिमिट से अधिक होता है तो जॉब को अस्वीकृत (Reject) कर दिया जाता है।
जॉब की लिमिट्स तथा फिट्स को निर्धारित करने के लिए कई सिस्टम है; जैसे-

  1. इण्टरनेशनल स्टैण्डर्ड ऑर्गेनाइजेशन (ISO)
  2. ब्रिटिश स्टैण्डर्ड सिस्टम (BSS)
  3. ब्यूरो ऑफ इण्डियन स्टैण्डर्ड (BIS)
  4. न्यूऑल सिस्टम (Newale System)

हमारे देश (भारत) में BIS द्वारा निर्धारित नियमों पर कार्य किया जाता है। इसके अंतर्गत आपस में फिट होने वाले पार्ट्स में अंदरूनी साइज (जिसमें कोई दूसरा पार्ट फिट होता है) वाला भाग होल (Hole) कहलाता है तथा बाहरी साइज वाला भाग शॉफ्ट (Shaft) कहलाता है।

More Information:- हैक्सॉ ब्लेड के दाँतों की सैटिंग के बारे

4 thoughts on “लिमिट के बारे में

  1. This is the right blog for anyone who wants to find out about this topic. You realize so much its almost hard to argue with you (not that I actually would want?HaHa). You definitely put a new spin on a topic thats been written about for years. Great stuff, just great!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © 2019 -2023 All Rights Reserved iticourse.com