1. Home
  2. /
  3. Fitter course
  4. /
  5. फिट्स के बारे में

फिट्स के बारे में

फिट्स क्या है?

Fits hindi me:- मशीनों में आपस में मिलने वाले पार्ट्स विभिन्न विशेषताओं के साथ मिलते हैं। कुछ पार्ट्स आपस में फँसकर मिलते हैं जबकि कुछ पार्ट्स बिल्कुल फ्री(iska matlab without Friction) मिलते हैं तथा कुछ पार्ट्स दूसरों के अंदर घूमते हैं। इस प्रकार आवश्यकतानुसार पार्ट्स एक दूसरे फिट (Fit) में रहते हैं अतः कहा जा सकता है।

आपस में मिलने वाले दो पार्ट्स (होल तथा शाफ्ट) के बीच के संबंध को फिट कहते हैं। यह दोनों पार्ट्स के साइजों (size) पर निर्भर करता है। इसको प्रदर्शित करने के लिए, बेसिक साइज (Basic Size) के आगे पहले होल का विचलन तथा उसके बाद शाफ्ट का विचलन (Deviation) दिया जाता है;
जैसे-20H7/g6 or 20H7-g6

More Information:- विचलन के बारे में

iti online mock test

फिट्स के प्रकार

1.क्लीयरैन्स फिट

ऐसी फिट जिसमे होल का छोटे-से-छोटा साइज, शाफ्ट के बड़े-से-बडे साइज से भी बड़ा रहता है, क्लीयरैन्स फिट कहलाती है।इसमें शाफ्ट बिना किसी रुकावट के होल में घूम (Move) सकती है, क्योंकि क्लीयररैन्स फिट में हमेशा धनात्मक (Positive) एलाउन्स होता है। यहाँ पर होल की टॉलरैन्स जोन (Tolerance zone) शाफ्ट की टॉलरैन्स जोन के ऊपर रहती है तथा उसके बीच कुछ क्लीयरैन्स भी रहता है।

क्लीयरैन्स फिट दो प्रकार की होती हैं

(a.) रनिंग फिट

इस फिट में धनात्मक एलाउन्स सबसे अधिक होता है। इसी कारण शाफ्ट होल साइज में आसानी से घूम सकती है शाफ्ट तथा बुश (Bush) के अंदर रनिंग फिट दी जाती है।

(b.)स्लाइडिंग फिट

इसमें भी धनात्मक एलाउन्स होता है परन्तु रनिंग फिट से कम होता है। इसमें शाफ्ट, होल साइज में सटकर जाती है। बहुत आसानी से नहीं जाती, परन्तु बल (Force) लगाने की आवश्यकता नहीं पड़ती।ब्लैकिंग व पंचिंग डाई में पंच (punch) तथा डाई (Die) के अन्दर स्लाइडिंग फिट दी जाती है।

2.ट्रांजीशन फिट

इस फिट में होल और शाफ्ट के बीच एलाउन्स इतना रखा जाता है कि न तो उसमें अधिक क्लीयरैन्स और न ही इण्टरफीयरैन्स।

(a.) पुस फिट

इस प्रकार की फिट में न तो अधिक क्लीयरैन्स और न ही इण्टरफीयरैन्स होता है, इसमें केवल पार्ट्स को हाथ के दबाव से (By Presser of hand) स्लाइड कर सकते हैं।

3.इण्टरफीयरैन्स फिट

इस प्रकार की फिट में शाफ्ट साइज हमेशा होल साइज से बड़ा होता है।इण्टरफीयरैन्स को होल साइज की लोअर लिमिट (Lower Limit) तथा शाफ्ट साइज की अपर लिमिट (Upper Limit) के अन्तर द्वारा दर्शाया जाता है।इण्टरफीयरैन्स फिट में एलाउंस हमेशा ऋणात्मक (Negative) होता है। इसमें होल की टॉलरैन्स जोन हमेशा शाफ्ट की टॉलरैन्स जोन से नीचे होती है।
इण्टरफीयरैन्स फिट में शाफ्ट को होल में बलपूर्वक फिट किया जाता है। इसमें ये फिट्स आती हैं।

(a.) ड्राइविंग फिट

इस प्रकार की फिट में इण्टरफीयरैन्स मात्र इस प्रकार रखी जाती है कि हथौडे़ (Hammer) की चोट से शाफ्ट को होल में फिट किया जा सके। यह फिट शाफ्ट तथा पुली या गियर (Pulley Or Gear), शाफ्ट तथा बियरिंग आदि में दिया जाता है।

(b.)फोर्स फिट

इसमें होल साइज शाफ्ट साइज की अपेक्षा छोटा होता है। ताकि प्रेस (दबाव) द्वारा बल लगाने पर पार्ट्स फिट किया जा सके। जैसे:- सिलेण्डर में स्लीव ( Sleeve) फिट करना।

(c.)श्रिंकेज फिट

इसमें दोनो पार्ट्स पर एलाउन्स इस प्रकार रखते हैं.कि होल को गर्म (Hot) करने पर शाफ्ट उसमें आसानी से आ सके। तथा ठण्डा (Cold) होने पर होल साइज सिकुड़कर शाफ्ट को बलपूर्वक पकड़ ले।

More Information:-विचलन के बारे में

7 thoughts on “फिट्स के बारे में

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © 2019 -2023 All Rights Reserved iticourse.com